top of page

Sleep for Health: World Sleep Day 2023 and Common Sleep Disorders

नींद एक मूलभूत मानवीय आवश्यकता है जो समग्र स्वास्थ्य और भलाई के लिए आवश्यक है। यह एक प्राकृतिक प्रक्रिया है जो शरीर को आराम करने, ठीक होने और पुन: उत्पन्न करने की अनुमति देती है। नींद की अनुशंसित मात्रा उम्र के आधार पर भिन्न होती है, लेकिन अधिकांश वयस्कों को ठीक से काम करने के लिए हर रात 7 से 9 घंटे की नींद की आवश्यकता होती है। विश्व नींद दिवस एक वार्षिक कार्यक्रम है जो वसंत विषुव से पहले शुक्रवार को मनाया जाता है। इसका उद्देश्य नींद के महत्व और शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर नींद संबंधी विकारों के प्रभाव के बारे में जागरूकता बढ़ाना है। वर्ल्ड स्लीप डे 2023 की थीम की घोषणा अभी बाकी है।

नींद विकार ऐसी स्थितियां हैं जो सो जाने या सोते रहने की क्षमता को प्रभावित करती हैं, या जो दिन के दौरान अत्यधिक नींद का कारण बनती हैं। कुछ सबसे आम नींद विकारों में अनिद्रा, स्लीप एपनिया, रेस्टलेस लेग सिंड्रोम और नार्कोलेप्सी शामिल हैं। अनिद्रा एक ऐसी स्थिति है जो सोते रहने या सोते रहने में कठिनाई, या बहुत जल्दी जागने और फिर से सोने में सक्षम नहीं होने के कारण होती है। स्लीप एपनिया एक ऐसी स्थिति है जिसमें नींद के दौरान सांस रुक जाती है, जिससे खर्राटे और दिन में नींद आने की समस्या हो सकती है। रेस्टलेस लेग सिंड्रोम एक ऐसी स्थिति है जिसमें पैरों में असहजता महसूस होती है जिससे नींद आना मुश्किल हो जाता है। नार्कोलेप्सी एक ऐसी स्थिति है जिसमें लोगों को दिन में अत्यधिक नींद आती है और अचानक नींद के दौरे का अनुभव हो सकता है।


नींद संबंधी विकार जीवन की गुणवत्ता पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकते हैं और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं, जैसे अवसाद, चिंता और हृदय रोग के जोखिम को बढ़ा सकते हैं। नींद विकारों के उपचार के विकल्प स्थिति के प्रकार और गंभीरता के आधार पर भिन्न होते हैं, लेकिन इसमें जीवनशैली में बदलाव, दवाएं और व्यवहार संबंधी उपचार शामिल हो सकते हैं। कुल मिलाकर, नींद स्वास्थ्य और भलाई का एक अनिवार्य घटक है, और विश्व नींद दिवस नींद के महत्व और नींद संबंधी विकारों के प्रभाव के बारे में जागरूकता बढ़ाने का अवसर प्रदान करता है।

पहले बताए गए नींद विकारों के अलावा, कई अन्य स्थितियां हैं जो नींद की गुणवत्ता और मात्रा को प्रभावित कर सकती हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं:


1. सर्कैडियन रिदम डिसऑर्डर: ये ऐसी स्थितियां हैं जो शरीर की आंतरिक घड़ी को प्रभावित करती हैं, जो नींद-जागने के चक्र को नियंत्रित करती हैं। सर्केडियन रिदम डिसऑर्डर के उदाहरणों में जेट लैग, शिफ्ट वर्क डिसऑर्डर और विलंबित स्लीप फेज डिसऑर्डर शामिल हैं।

2. पैरासोमनिआस: ये असामान्य व्यवहार हैं जो नींद के दौरान होते हैं, जैसे कि स्लीपवॉकिंग, नाइट टेरर और स्लीप-रिलेटेड ईटिंग डिसऑर्डर।

3. नींद से संबंधित गति विकार: ये ऐसी स्थितियाँ हैं जो नींद के दौरान हलचल पैदा करती हैं जो नींद की गुणवत्ता को बाधित कर सकती हैं। उदाहरणों में रेस्टलेस लेग सिंड्रोम और आवधिक अंग गति विकार शामिल हैं।

4. नींद से संबंधित श्वास संबंधी विकार: ये ऐसी स्थितियां हैं जो नींद के दौरान सांस लेने को प्रभावित करती हैं, जैसे स्लीप एपनिया और खर्राटे।

आपके द्वारा अनुभव की जा रही किसी भी नींद की समस्या का समाधान करना महत्वपूर्ण है, क्योंकि नींद शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। बेहतर नींद की स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिए कुछ युक्तियों में नियमित नींद कार्यक्रम स्थापित करना, सोने से पहले कैफीन और शराब से परहेज करना, आरामदायक नींद का माहौल बनाना और सोने से पहले विश्राम तकनीकों का अभ्यास करना शामिल है। यदि आप लगातार नींद की समस्याओं का सामना कर रहे हैं, तो एक स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से बात करना महत्वपूर्ण है जो आपकी नींद की समस्याओं में योगदान देने वाली किसी भी अंतर्निहित स्थितियों का निदान और उपचार करने में मदद कर सकता है।


Comments

Rated 0 out of 5 stars.
No ratings yet

Add a rating
bottom of page